तनिष्क शोरूम पर हमले की फेक न्यूज दिखाने के मामले में बुरी तरह फंसा NDTV, पुलिस ने दर्ज किया केस

0
0

एनडीटीवी पर फेक न्यूज फैलाने का केस दर्ज किया गया है। ये केस कच्छ में दर्ज हुआ है। दरअसल हाल ही में एनडीटीवी ने एक खबर दिखाई थी। जिसमें ये दावा किया गया था कि गुजरात के गांधीधाम स्थित तनिष्क शोरूम पर हमला किया गया है। तनिष्क विज्ञापन विवाद के बाद एनडीटीवी पर ये खबर दिखाई गई थी। जो कि पूरी तरह से झूठी थी। इसी मामले को लेकर अब एनडीटीवी पर केस दर्ज किया हुआ है और फेक न्यूज फैलाने का आरोप इस चैनल पर लगाया गया है। सूत्रों के अनुसार भारतीय दंड संहिता की धारा 153A और 505 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। धारा 153 ए के अनुसार उन व्यक्तियों पर केस दर्ज किया जाता है जो कि किसी विशेष समूह या वर्ग के धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा आदि पर या किसी धर्म के संस्थापकों पर अभद्रता या अभद्रता करता हैं।

इस मामले पर गुजरात के गृह राज्य मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने ट्वीट कर लिखा था कि एनडीटीवी द्वारा गांधीधाम (गुजरात) के तनिष्क स्टोर पर हमले की फैलाई गई खबरें पूरी तरह से झूठी और फ़र्ज़ी हैं। ये बिलकुल ही गलत मंशा से गुजरात में कानून-व्यवस्था बिगाड़ने और हिंसा भड़काने के उद्देश्य से किया गया काम है। मैंने इन लोगों पर मामला दर्ज करने को कहा है और फेक न्यूज चलाने वालों पर सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं। गुजरात के गृह मंत्री के इस ट्वीट के बाद गुरुवार शाम को केस दर्ज कर लिया गया है।

क्या दिखाया था न्यूज में

समाचार चैनल NDTV ने सबसे पहले कहा था कि स्टोर पर हमला किया गया है। फिर, ये कहा कि भीड़ द्वारा ये हमला किया गया है। इसके बाद NDTV ने कहा कि भीड़ ने स्टोर पर माफी नोट चिपकाया है और अंत में इस चैनल ने कहा कि स्टोर को एक धमकी भरा फोन मिला था।

दिखाया था कि एक व्यक्ति ने गांधीधाम में तनिष्क शोरूम में हंगामा किया था और विज्ञापन के लिए माफी मांगने को कहा था।

गौरतलब है कि तनिष्क ने एक विज्ञापन के जरिए एक हिंदू लड़की को मुस्लिम परिवार की बहु दिखाया था। तनिष्क के इस विज्ञापन पर खूब हंगामा हुआ था। जिसके बाद कंपनी ने ये विज्ञापन दिखना बंद कर दिया था। वहीं इसी बीच 14 अक्टूबर को NDTV ने एक खबर दिखाई थी और ये दावा किया था कि विज्ञापन के चलते तनिष्क शोरूम पर हमला किया गया है।  जो कि गलत खबर निकली थी।