बाप नाबालिग बेटी संग दुष्कर्म करता था, मां चुपछाप देखती थी, फिर पीड़िता ने उठाया ये कदम..

0
1017

भारत में बलात्कार के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। यह केस अब इतने अधिक बढ़ गए हैं कि महिलाओं की सुरक्षा पर ही सवाल खड़े होने लगे हैं। दुख तब और अधिक होता है जब पीड़िता के साथ दुष्कर्म करने वाला व्यक्ति उसका ही कोई जान पहचान वाला या रिश्तेदार होता है। कुछ मामले तो ऐसे भी सुनने को मिलते हैं जहां एक बाप अपनी ही बेटी को हवस का शिकार बना लेता है। ऐसा ही एक मामला कोयंबटूर में देखने को मिला है। यहां एक हवस के भूखे पीते ने अपनी ही नाबालिग बेटी के साथ दुष्कर्म किया। हैरत की बात तो ये थी कि पीड़िता की मां को इसकी जानकारी होने के बावजूद वह चुप रही।

बाप करता रहा दुष्कर्म, मां चुपचाप देखती रही

दरअसल शुक्रवार को कोयंबटूर में एक अदालत ने 46 वर्षीय बाप को उम्र कैद की सजा सुनाई है। पिता पर उसकी 14 वर्षीय बेटी से बार बार दुष्कर्म करने का आरोप लगा है। वहीं पीड़िता की पत्नी को भी अपराध की जानकारी होने के बावजूद चुप रहने के जुर्म में उम्र कैद की सजा सुनाई गई है। पॉक्सो न्यायाधीश जे राधिका ने ये फैसला सुनाते हुए पीड़िता के पेरेंट्स पर एक हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

माता पिता को मिली उम्र कैद की सजा

इसके अतिरिक्त न्यायाधीश ने राज्य सरकार को पीड़िता को आर्थिक मदद देने के निर्देश भी दिए हैं। पीड़िता जिले के अनामलाई में रहती है। उसका पिता नारियल के बागान में काम करता है। अभियोजन पक्ष के अनुसार पीड़ित लड़की ने अपने पिता की काली करतूत के बारे में मां को बताया था। हालांकि मां ये सब जानने के बावजूद चुप रही, इसके चलते पिता का यौन उत्पीड़न जारी रहा।

स्कूल टीचर ने की थी मदद

बाद में पीड़िता ने अपनी आपबीती स्कूल में सहेलियों को बताई। वहां से बात स्कूल टीचर तक पहुंची। उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। इस शिकायत के आधार पर पति पत्नी को 20 जून 2019 को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि बाद में दोनों जमानत के आधार पर छूट गए थे। यह केस चलता रहा और आखिर बीते शुक्रवार लड़की को इंसाफ मिला। आरोपी दंपति को बच्चों का यौन अपराध से संरक्षण (पॉक्सो) कानून के तहत सजा सुनाई गई।