पापा रामविलास को रोज करते थे किस, चिराग पासवान ने उनके निधन के बाद मां से की है एक डील

0
2

चिराग पासवान अपने पिता से बेहद क्‍लोज थे, उनके निधन के बाद वो टूट से गए हैं । लेकिन सर पर चुनाव की जिम्‍मेदारियां भी हैं ।

New Delhi, Oct 17: लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान नहीं रहे, विधानसभा चुनाव से ऐन पहले उनका निधन बेटे चिराग पासवान के लिए मुश्किल समय ले आया है । पिता के बेहद करीब चिराग के लिए इस दुख की घड़ी में चुनाव पर ध्‍यान देना मुश्किल  हो रहा है । लेकिन परिवार और पार्टी की जिम्‍मेदारी उन्‍हें निभानी ही हैं । हालांकि रामविलास पासवान ने उन्हें पिछले साल ही आधिकारिक तौर पर पार्टी का मुखिया बना दिया था, लेकिन वो अब तक राजनीति के गुर अपने पिता से ही सीख रहे थे । अब इस मुश्किल समय में उन्‍होंने अपनी मां से एक डील की है ।

चुनाव नतीजों तक कमजोर नहीं होंगे
चिराग पासवान ने एक इंटरव्यू में कहा कि रामविलास पासवान के निधन के बाद उन्होंने औऱ उनकी मां ने एक खास डील की है। चिराग ने बताया कि मैंने औऱ मां ने तय किया है कि 10 नवंबर तक यानी तक तक जब तक बिहार चुनावों के नतीजे ना आ जाएं, हमें रोना नहीं है। चिराग ने कहा कि 10 के बाद हम दोनों पापा को याद करके खूब रोएंगे। तब तक हमें कमजोर नहीं पड़ना है।

मां और मुझे हिम्‍मत चाहिए
चिराग पासवान ने आगे कहा कि बिहार चुनावों में हमें हमारी पूरी ताकत लगानी है इसलिए मैंने और मेरी मां ने एक दूसरे को हिम्मत देने के लिए ये डील की है। चिराग से इस इंटरव्‍यू में काफी निजी सवाल भी किए गए, जिनमें से एक ये भी था कि वह पिता रामविलास पासवान से जुड़ी कौन सी ऐसी चीज है जिसे सबसे ज्यादा मिस कर रहे हैं।

पापा को किस करके सोता था
चिराग पासवान ने बताया कि सालों से हमारे घर में एक परंपरा चली आ रही थी, या कहें एक आदत कि हम सब सोने से पहले पापा को किस करते थे। चाहे कितनी भी देर हो जाए हम रोजाना पापा को गुडनाइक किस दिया करते थे। ये हमारा सबसे खास लम्हा हुआ करता था। चिराग अपने पिता के बारे में बात करते हुए इंटरव्यू के बीच ही फफक कर रोने लगे । बड़ी मुश्किल से उन्‍होंने खुद को संभाला । आपको बता दें चिराग पिता की पार्थिव देह को मुखाग्नि देते हुए भी लड़खड़ाकर गिर गए थे, तब भी वो अपनी मां से लिपटकर खूब रोए थे ।