सपनों के लिए 26 की उम्र में छोड़ दी थी कॉर्पोरेट सेक्‍टर की नौकरी, अब IPL में उड़ा रहे आंधी

0
3

सपने कौन नहीं देखता, लेकिन उन्‍हें पूरा करने का जज्‍बा बहुत कम लोगों में देखने को मिलता है । आईपीएम में केकेआर की ओर से खेल रहे एक खिलाड़ी ने भी कुछ ऐसा ही कर दिखाया है ।

New Delhi, Oct 17: कोलकाता नाइट राइडर्स के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती की इन दिनों खूब चर्चा है । गेंदबाजी के इस मिस्‍ट्री मैन ने मैदान पर जो दम खम दिखाया है वो काबिल-ए-तारीफ है । लेकिन इस खिलाड़ी का इस मुकाम तक पहुंचने का सफर आसान नहीं था । वरुण की कहानी आपके हौसले को भी नई उड़ान देगी । अगर आप भी जिंदगी में कुछ चीज पाने के लिए मेहनत कर रहे हैं और वो आपको नहीं मिल रही है, तो उस पर हार मानने की बजाय उसे पाने की और कोशिश करें । एक ना एक दिन वो आपको जरूर मिलेगी । ठीक वैसे ही जैसे वरुण को मिली ।

17 साल की उम्र में लगी चोट
वरुण चक्रवर्ती को क्रिकेट से बेहद लगाव था, लेकिन 17 साल की उम्र में ऐसी इंजरी हुई कि वो खेल ही नहीं पाए । इससे पहले उन्‍हें मौके भी नहीं मिले । वरुण थक-हारकर अपनी एक अलग दुनिया में लौट गए । आम स्टूडेंट की तरह पढ़ाई पूरी की और फिर नौकरी पर भी लग गए । लेकिन उनका दिल तो क्रिकेट में ही रमा हुआ था, जिसके चलते वो फिर से क्रिकेट की दुनिया में लौट गए ।

चेन्नई में की आर्किटेक्ट की पढ़ाई
वरुण चक्रवर्ती ने 17 साल की उम्र में दो बार चोट के चलते क्रिकेट खेलना छोड़ दिया. था, इसके बाद 12वीं पास की और 5 सालों तक चेन्नई में आर्किटेक्ट की पढ़ाई की । 26 साल की उम्र तक वरुण ने नौकरी भी की, लेकिन फिर सब कुछ छोड़कर एक बार फिर क्रिकेट मैदान पर कदम रखा ।  क्रिकइन्फो वेबसाइट से बात करते हुए वरुण ने कहा-  ‘मैंने ये कभी नहीं सोचा था कि क्रिकेट मेरी जिंदगी में फिर से लौटेगी । लेकिन मैं दोबारा वापसी करने में कामयाब रहा।’