मोती की खेती करने वाले किसान विनोद कुमार ने यू ट्यूब से ली ट्रेनिंग, अब कमा रहे लाखों रुपये

0
4




आज देश में कई किसान ऐसे है जो खेती न हो रहे मुनाफे के चलते खेती को छोड़ कर कुछ और काम करने की तलाश में हैं। वहीं कुछ किसान ऐसे हैं जो खेती के नए-नए तरीकों को सीख कर रहे हैं और खेती के दम पर ही लाखों कमा रहे हैं। हमने आपको ऐसे कई किसानों के बारे में बताया भी है और आज भी हम आपको एक ऐसे ही किसान के बारे मे बताने जा रहे हैं।

इस किसान ने पारम्परिक खेती से हटकर कुछ अलग करने की कोशिश की और जिसमें ये सफल भी रहे। आपने अब तक कई सारे फलों, सब्जिओं और अनाज की खेती करने वाले किसानों के बारे में सुना होगा, लेकिन जिस खेती की हम बात कर रहे हैं उसमे ना तो ज्यादा जमीन की जरूरत पड़ती है, ना ज्यादा पैसे की जरूरत पड़ती है और ना ही ज्यादा मेहनत की जरूरत पड़ती है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं मोतियों की खेती करने वाले किसान के बारे में।

पर्ल फार्मिंग करने वाले सफल किसान विनोद कुमार। मोती उत्पादन करने वाले विनोद कुमार बताते हैं कि वो पूरा दिन इसके काम में नहीं लगे रहते, न ही इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और न ही इसके लिए जमीन या पानी के इतनी दिक्कते आती है और बिना इतनी मेहनत किए भी बहुत अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता हैं। आप भी इस खेती से सिर्फ कुछ ही घंटे काम करके काफी कमा सकते हैं। हरियाणा के गुरुग्राम में जमालपुर जिले के रहने वाले किसान विनोद कुमार इसी खेती से लाखों कमा रहे हैं।


एक समय पर विनोद कुमार पेशे से एक मकेनिकल इंजीनियर हुआ करते थे। विनोद कुमार बताते हैं कि उनको पहले से ही खेती में काफी रुची रही है। वो पहले सोचा भी करते थे कि अगर खेती शुरू कि जाए तो किस चीज की खेती की जाए जिससे कम बजट में शुरू किया जाए और अच्छा मुनाफा कमाया जाए। तो एक दिन अचानक ही उनके दिमान में मोती की खेती करने के इच्छा हुई और उन्होंने इस बारे में जानकारी हासिल करना शुरू कर दिया। उसके बाद उन्होंने अपनी मकेनिकल इंजीनियर की नौकरी छोड़ दी और मोती की खेती करनी शुरू कर दी।

जब विनोद ने मोती की खेती की पूरी जानकारी इकठा कर ली। उसके बाद मई साल 2016 में उन्होंने भुबनेश्बर में CIFA से मोती उत्पादन की एक सप्ताह की ट्रेनिंग ली। उन्होंने पहले सीमेंट ड्रम्स से मोती उत्पादन की शुरुआत की थी और अब उन्होंने इसका काफी विस्तार कर लिया है और वह लगभग 5 लाख से ज्यादा मुनाफा कमा रहे हैं। विनोद कुमार बताते हैं कि इस खेती में मेहनत, बजट और समय बेहद कम खर्चा होता है, लेकिन मुनाफा अच्छा कमाया जा सकता है तो मोती की खेती करना एक सही फैसला रहा है।