फैशन डिजाइनिंग के करियर को छोड़, 26 की उम्र में बनी सरपंच, ताकि महिलाओं को दूर से पानी ना ढोना पड़े

0
0

आपको भी सुनकर यह थोड़ा अजीब लगेगा कि कैसे कोई फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद राजनीति में आ सकता है। हाँ! लेकिन यह बात सच है। अलवर की रहने वाली प्रियंका राजनीति विज्ञान में पढ़ाई करने के बाद फैशन डिजाइनिंग का कोर्स की और नौकरी ना करके गाँव आने के बाद वह महिलाओं की स्थिति और गाँव की दशा बदलने के लिए बन गई सरपंच।

patrika.com

दरअसल प्रियंका नरूका अलवर जिले के थानागाजी क्षेत्र के अजबपुरा गाँव की रहने वाली हैं। राजनीति विज्ञान की पढ़ाई करने के बाद प्रियंका जयपुर के एलएन इंस्टीट्यूट, ज्योति बाई फुले यूनिवर्सिटी से फैशन डिजाइनिंग का कोर्स की है। पढ़ाई के दौरान वह जब भी अपने गाँव आती थी तो वह बहुत दूर-दूर से महिलाओं को हैंडपंप और बोरिंग से पानी ढोते हुए देखती थी। इस बात का प्रियंका को बहुत बुरा लगता था। इसीलिए उन्होंने फैशन डिजाइनिंग में अपने करियर को ना तलाश कर राजनीति का रुख किया।

patrika.com

पत्रिका कि रिपोर्ट के अनुसार, प्रियंका ने चुनाव लड़ने के दौरान महिलाओं से यही कहा था कि वर्षों से तो पुरुषों को ही नेता चुना गया है। एक बार उन्हें भी मौका ज़रूर दिया जाए, ताकि वह महिलाओं के हित में कुछ कर सके और ऐसा ही हुआ जब प्रियंका सिर्फ़ 26 साल की उम्र में अपने पहले ही प्रयास में चुनाव में जीत गई। अपनी मेहनत और अपने दृढ़ संकल्प में वह सफल हुई और अपने गाँव की सरपंच बन गई।

patrika.com

अब प्रियंका अपने गाँव में स्कूटी पर दिखती है। बदलाव के क्षेत्र में उनकी पहली प्राथमिकता है पानी और बिजली की समस्या को दूर करना ताकि वहाँ की महिलाओं को मीलों दूर जाकर पानी न ढोना पड़े। वैसे उनके लिए ये रास्ता तो बहुत मुश्किल है, मगर युवा वाली जोश भी कम नहीं है। क्योंकि हमारे देश के युवाओं में इस तस्वीर को बदलने का भी दम है। वह ज़रूर अपने इस मकसद में कामयाब होंगी।