शर्मनाक! आखिर क्यों 3 नातियों के साथ टॉयलेट में रह रही थी 70 साल की बुजुर्ग? जानिये

0
3

आज हमारा देश इतना आगे बड़ चुका है कि पीढ़ी दर पीढ़ी हमें नए एक्सपेरिमेंट्स करने की आदत हो गई है और ज़मीनी हकीकत देखें तो लगता है कि आजादी के इतने सालों बाद भी हमारे देश में जरूरत की चीज़ों से सब अनजान है.

वहीं ओडिसा के अंगुल जिले के बाईसाना गांव में विमला प्रधान नाम की एक बुज़ुर्ग महिला 5 साल और 8 साल की दो लड़कियों और 6 साल के एक लड़के के साथ टॉयलेट में रह रही थी, बच्चों की माँ के मौत के बाद उनका पिता उन्हें छोड़कर चला गया था, तबसे लेकर आज तक विमला अपने नातियों के साथ इस 3 ft x 4 ft x 6 ft के टॉयलेट में रहने पर मजबूर हैं.

विमला प्रधान का इस पर कहना था कि पहले वह मिट्टी के घर में रहती थी और काम कि तलाश में जंगल में भटकती रहती थी. बारिश आने के बाद मिट्टी का घर क्षतिग्रस्त हो गया. उन्होंने कहा- मेरे पास रहने कि जगह नहीं है इसीलिए, जो जगह उन्हें मिलती…वह वहीं रहती. सरकार की तरफ से हाल ही में टॉयलेट का निर्माण हुआ था और कोई भी उसका इस्तेमाल नहीं कर रहा था इसीलिए वह उसमे रहने लगीं.

बता दें, सरकारी कागज़ात के बिना इस परिवार को राशन भी मिलना नसीब नहीं हो पा रहा था और ना ही विमला को नौकरी मिल पा रही थी. एरिया के BDO श्यामल ने कहा कि वह मामले की जांच करेंगे. फिलहाल, बच्चों को अनाथ आश्रम भेज दिया गया है और उनका स्कूल मे भी एडमिशन करवा दिया जाएगा.

इस मामले को लेकर प्रशासन से सवाल करने वाले एक्टिविस्ट राजनीत पटनायक ने कहा- गांव के किसी व्यक्ति तक ने इस बुज़ुर्ग महिला और उनके नातियों की मदद नहीं की. पेंशन, राशन, बच्चों की स्कूलिंग, इन सभी सुवधाओं के बिना इस परिवार को रहना पड़ा. यह एक उदाहरण सरकार द्वारा बनाई सभी योजनाओं पर सवाल उठाता है. उन्होंने कहा, उच्च अधिकारियों से इस मामले को लेकर पूछताछ होनी चाहिए.