घर लौटी बहन से भाई ने पूछा- क्या हुआ, उसने कहा- मुझे शर्म आ रही है…अगले दिन जो हुआ उस पर नहीं हो रहा किसी को भरोसा

0
1

हेलो दोस्तों आज हम आपके लिए लाएं हैं एक दिल द’हला देने वाली घ’टना। 10वीं की छात्रा के साथ हुआ कुछ ऐसा जिसे सुनकर आप है’रान रह जाएंगे. खबरें मिली है कि छत्तीसगढ़ के जसपुर के एक गांव में 16 साल की छात्रा जो दसवीं बोर्ड का एग्जाम दे रही थी उसने एग्जाम के दूसरे दिन फ़ां’सी लगाकर आ’त्म’ह’त्या कर ली। परिजनों से हुई बातचीत में बताया गया है कि छात्रा 10वीं का बोर्ड एग्जाम दे रही थी जिस दिन वह पहला एग्जाम देकर घर आई तो वह बहुत डिस्टर्ब और चुपचाप थी इस पर उसके भाई ने उससे सवाल किया कि क्या बात है तुम इतनी उदास क्यों हो?

छात्रा ने जवाब दिया कि मुझे शर्म आ रही है। उसने बताया कि एग्जाम के दौरान अन्य छात्राओं के कपड़े उतार कर उनकी तलाशी ली गई लेकिन अगर ऐसा मेरे साथ हुआ तो मैं मर जाऊंगी और अगले दिन छात्रा एग्जाम देने चली गई लेकिन वापस नहीं आई काफी छानबीन और ढूंढने के बाद जंगल में छात्रा की ला’श बरामद हुई.

google

कहा जा रहा है कि छात्रा की मौ-त का कोई भी केस दर्ज नहीं हुआ है लेकिन एक अधिकारी ने बताया है कि जांच चल रही है और इस केस में छात्रों और प्रिंसिपल से पूछताछ की जाएगी क्योंकि अभी बोर्ड एग्जाम चल रहे हैं इसलिए प्रशासन बोर्ड एग्जाम में दखलंदाजी नहीं करना चाहता. पूरा मामला दरअसल यह है कि 10वीं की बोर्ड परीक्षा थी और पहले ही दिन फ्लाइंग स्क्वाड आ धमके ।परीक्षा के दौरान उन्हें 3 छात्रों पर शक था। जिस कारण परीक्षा से पहले दो छात्राओं एवं एक छात्र की कपड़े उतारकर तलाशी ली गई.

संदेह के मुताबिक लड़के के पास से नकल की पर्ची बरामद हो गई और उसे कक्षा से बाहर निकाल दिया गया बाकी की 2 छात्राओं के पास से कोई भी नकल की सामग्री बरामद नहीं हुई और उन्हें वापस एग्जाम हॉल में भेज दिया गया लेकिन एग्जाम के बाद उन्होंने अपने दोस्तों को बताया कि कैसे परीक्षा के नाम पर और नकल के नाम पर उनका अपमान किया गया.

google

यह सब देखने के बाद जब पीड़ित छात्रा घर आई तो वह काफी डरी हुई थी और चुपचाप थी परिजनों को लगा कि उसकी परीक्षा ठीक नहीं हुई है जिस कारण उसे चिंता हो रही है ।छात्रा के भाई से उसकी हालत देखी नहीं गई और उससे पूछा कि चुपचाप क्यों है इस पर छात्रा बोली कि मुझे शर्म आ रही है बताते हुए की परीक्षा में नकल के नाम पर कैसे कपड़े उतार कर तलाशी ली गई यदि मेरे साथ ऐसा होता तो मैं जान दे देती ।उसके बाद 3 मार्च को छात्रा घर से गायब हो गई छात्रा के परिजनों ने उसे बहुत ढूंढा फिर उसकी लाश जंगल में एक पेड़ पर लटकी हुई मिली जिसे देख कर सब हैरान रह गया है.

छानबीन के मामले में कलेक्टर नीलेश ने कहा है कि जिन छात्र छात्राओं की नकल के संदेह में तलाशी ली गई पीड़िता उनमें शामिल नहीं थी। मामले की जांच अभी जारी है जैसे ही कुछ पता चलेगा वह उसके परिजनों को बताएंगे ।कलेक्टर का मानना है कि इस आ’त्म’ह’त्या के पीछे की वजह कुछ और है.