महाराष्ट्र में ओवैसी का बड़ा दाँव, प्रकाश अंबेडकर की पार्टी से गठबंधन की…

0
0

साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद अब महाराष्ट्र में बहुत जल्द विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसके चलते राज्य की सभी राजनीतिक पार्टियों की जमकर तैयारियां करनी शुरू कर दी। जहां भारतीय जनता पार्टी इस बार फिर विधानसभा चुनाव शिवसेना के साथ गठबंधन से लड़ने जा रही है। वहीं ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने भी विधानसभा चुनाव को लेकर एक बड़ा फै’स’ला लिया है।

माना जा रहा है कि पार्टी प्रकाश आंबेडकर की अगुवाई वाली वंचित बहुजन अगाडी पार्टी के साथ गठबंधन ख’त्म नहीं करेगी इस मामले में एआईएमआईएम महाराष्ट्र के अध्यक्ष और औरंगाबाद से सांसद इम्तियाज जलील ने बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि हमारी पार्टी में प्रकाश आंबेडकर के लिए हमेशा दरवाजे खुले रहे हैं और अभी भी खुले हैं लेकिन उन्हें हमें ज्यादा सीटें देनी चाहिए।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बारे में मीडिया से बातचीत करते हुए ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन महाराष्ट्र के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद इम्तियाज जलील ने कहा है कि दोनों पार्टियों ने मिलकर साल 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था और औरंगाबाद सीट से जीत हासिल की थी। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता ने महाराष्ट्र में 40 सीटों पर जीत काम करने की मदद की।

वहीं औरंगाबाद में मु’स्लि’म और द’लि’तों के वोटों का एकी’कर’ण हुआ और यहां पर हमारी पार्टी ने जीत हासिल की। आपको बता दें कि साल 2019 में महाराष्ट्र के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी विधानसभा उपचुनाव होने वाले हैं लेकिन महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव ज्यादा महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

लोकसभा सांसद इम्तियाज जलील ने कहा कि प्रकाश अंबेडकर ने 288 में से केवल 8 सीटों की पेशकश की और दोनों दल अलग-अलग चुनाव लड़ेंगे। दूसरी तरफ, प्रकाश आंबेडकर ने ग’ठबं’धन बनाए रखा और कहा कि को सीट-बं’टवा’रे पर फिर से बातचीत करनी चाहिए। अब पहली बार, हमारी पार्टी ने विधानसभा चुनाव में बढ़ी हुई सीटों की पूर्व शर्त के साथ, फिर गठबंधन में लौटने की इच्छा जाहिर है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिए मतदान की तारीखों का ऐलान चुनाव आयोग ने शनिवार को कर दिया है।