झारखंड की इन सीटों पर ओवैसी की नजर, बि’गड़ सकते हैं बीजेपी के सियासी समीकरण..

0
0

हाल ही में हुए महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के बाद अब देश के एक और बड़े राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। झारखंड में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐ’लान हो गया है। जिसके बाद राज्य में सभी पार्टियां जोर-शोर से तैयारियों में जुट गई है। ऐसे में AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी झारखंड में किस्मत आजमाने पर विचार कर रहे हैं।

इस विधानसभा चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दलों ने अभी से ही जोरों शोरों से तैयारियां शुरू कर दी हैं। बताया जा रहा है कि हैदराबाद से लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मु’स्लि’मीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भी झारखंड में विधानसभा चुनाव लड़ने का फै’सला लिया है। आपको बता दें कि उनकी पार्टी की नजर उन 3 सीटों पर है जहां मु’स्लि’म म’त निर्णा’यक ख़ास भूमिका निभाते हैं।

झारखंड की कई सीटें हैं जहां पर मु’स्लि’म मतदाता निर्णायक भूमिका निभाते आए हैं। हाल ही में मजलिस सदर हुब्बान मलिक कई सभा में यह कह चुके हैं कि वह करीब 50 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगे। जिसकी तैयारियां जो’रों शो’रों से चल रहा है। झारखंड विधानसभा में ये संभावना है कि ओवैसी गोड्डा, साहिबगंज, जामताड़ा, पाकुड़, महगामा, डुमरी, राजमहल, मधुपुर, जमशेदपुर पूर्वी, रांची, हटिया में प्रत्याशी उतारें। पिछले चुनाव में जामताड़ा, पाकुड़ से अल्पसंख्यक समुदाय के कांग्रेस विधायक जीते थे।

इधर, जब से कांग्रेस नेता मन्नान मलिक के बेटे हुब्बान मलिक को एआईएमआईएम की राज्य कमान सौंपी गई, तब से पार्टी की बैठक राज्य भर में होने लगी है। इसमें उछाल आई इस 25 सितंबर से, जब ओवैसी की रांची में सभा हुई। इसी में घोषणा की कि म’जलि’स झारखंड में चुनाव लड़ेगी।

आपको बता दें कि बिहार में 5 सीटों पर हुए उपचुनाव में AIMIM ने किशनगंज सीट पर जीत हासिल की है। तो वहीं महाराष्ट्र में भी पार्टी ने दो नई जगहों पर जीत दर्ज की है। हालांकि दो सीटों पर एमआईएमआईएम के विधायक हार गए। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने महाराष्ट्र की कुल 44 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे।