30 सालों तक पासवान ने सबसे छुपाया था ये बड़ा राज, सामनें आतें ही लोगों के उड़े होश….

0
3

रा’जनी’ति में मौ’सम वैज्ञानिक के तौर पर मशहूर रामविलास पासवान ने अपना जीवन और पार्टी दोनों को खुद गढा। बिहार की रा’जनी’ति से लेकर देश की रा’जनी’ति में वह अहम किरदार बने रहे। वि’परी’त ध्रुव वाली रा’जनी’ति के साथ नि’र्वाह करने का सा’मं’जस्‍य और कौ’शल दो’नों ही उनमें नि’हित रहा। उनके व्‍य’क्ति’त्‍व को ऐसे भी समझा जा सकता है कि उन्‍होंने पूरी दु’निया से अपने दो वि’वाह की बात पूरे ती’स साल तक छु’पाए रखी।

आठ बार लो’कसभा जीत चुके राम विलास पासवान

ला’लू या’दव और नी’तिश कुमार जैसे बि’हार के नेताओं को लोकनायक जेपी के आं’दोल’न की देन माना जाता है लेकिन राम’विला’स पासवान बगैर किसी बडे नेता व आंदोलन का सहारा लिए बिहार की रा’जनी’ति को पूरे सा’ठ साल तक प्रभा’वित करते रहे। कुल आठ बार लो’कसभा, एक बार राज्यस’भा और एक बार ही वि’धानसभा सदस्‍य रह चुके हैं। उनके नाम से ही स’बसे ज्या’दा वोट से लोक सभा चु’नाव में जीत हा’सिल करने का रि’कॉ’र्ड था, बाद में ये रि’कॉर्ड पूर्व प्र’धानमं’त्री न’रसिम्‍हा राव ने तोड़ा। वे जनता पार्टी, लोकदल, जनता दल में भी रह चुके हैं। अपनी शानदार रा’जनी’तिक समझ के चलते उन्होंने बार बार सत्ता पक्ष में रहने में सफलता पायी है। उन्होंने 2000 में लोक जनशक्ति पार्टी का गठन किया। उनकी पा’र्टी उनके प’रिवा’र की पा’र्टी भी कहा गया लेकिन उनकी जा’ति के लोग उनके साथ म’ज’बूती के साथ खड़े हैं। बि’हा’र में आज भी पा’सवा’न जा’ति में उनकी कद का कोई ने’ता नहीं हो सका है।

पारिवारिक जीवन का राज नहीं होने दिया उजागर

रा’म वि’लास पा’सवा’न ने दो शादियां की। पहली पत्‍नी रा’जकुमा’री देवी हैं जो आज भी राम वि’लास पा’सवा’न के पै’तृक नि’वास ख’गडि’या जिला के शा’हबन्‍नी गांव में रहती हैं। पासवान की उनसे 1960 में शादी हुई थी। राजकुमारी से उनकी दो बेटियां उषा और आशा हैं। इन दोनों का विवाह हो चुका है।

तीस साल तक छु’पाए रखा पत्नियों का राज

राम विलास पासवान के अनुसार उन्‍होंने 1983 में दूसरी शादी रीना से की। पासवान से शादी करने से पहले रीना एयरहोस्‍टेस थीं और बताते हैं कि हवाई यात्रा के दौरान दोनों का एक-दूसरे से परिचय हुआ और पासवान ने उनके साथ दूसरा विवाह कर लिया। पासवान ने 2014 के लो’कसभा चु’नाव के दौ’रान हाजीपुर से जदयू सांसद व प्रत्‍याशी सुंदर दास के एजेंट कन्‍हैया प्रसाद की ओर से चु’नाव आयोग के सम’क्ष आ’पत्ति ज’ताने पर पूरी दुनिया को बताया कि उन्‍होंने 1983 में जब रीना शर्मा से विवाह किया तो उससे पहले 1981 में ही पहली पत्‍नी से त’लाक ले चुके थे। चि’राग पा’सवान उनकी दूसरी पत्नी रीना के बेटे हैं। रीना से उनकी एक बेटी निशा भी है।

पहली पत्नी से दो बेटियाँ, चि’राग दूसरी पत्नी के बेटे

हालांकि इससे पहले जो भी चुनाव राम विलास पासवान ने लडे उसमें पत्‍नी के तौर राजकुमारी देवी का ही जिक्र किया गया है। राजकुमारी देवी को आज तक इस बात का मलाल है कि पति के तौर पर राम विलास को उन्‍होंने दिल से प्‍यार किया। उनकी राह में बाधा नहीं बनी लेकिन पहली पत्नी के रूप मे उन्हें पासवान जो प्यार और अधिकार मिलना चाहिए था वो नहीं मिल पाया।

उन्‍होंने एक बार मीडिया को बताया था कि चिराग पासवान से उनकी कभी –कभी मुलाकात हो जाती है लेकिन वह गांव कम ही आते हैं। एक बार अपने दादा के निधन पर गांव आए थे। अब पटना जाने पर ही चिराग से मुलाकात होती है। चिराग पासवान अपनी मां रीना और राम विलास के साथ पटना में ही रहा करते हैं।