2 सप्ताह की बेटी गोद में लिए काम पर लौटीं मोदीनगर की SDM सौम्या पांडेय

0
3

गाजियाबाद से सटे मोदीनगर की उपजिलाधिकारी सौम्या पांडेय अपनी 2 हफ्ते की बेटी गोद में लिए काम पर लौटीं. देशभर में लोग उनकी फोटो और वीडियो पर कमेंट करते हुए सभी सोशल प्लेटफॉर्म्स पर शेयर कर रहे है.

इलाहाबाद से कॉलेज मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टिट्यूट टेक्नोलॉजी संस्थान से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग बीटेक में गोल्ड मेडल हासिल करने वाली सौम्या पांडेय ने आईएएस की परीक्षा में टॉप टेन की जगह बनाई थी. उन्हें करीब एक साल पहले मोदीनगर की उपजिलाधिकारी बनाया गया.

सरकार से प्रेगनेंट महिलाओं को सार्वजनिक स्थानों से दूरी बनाने की गाइड लाइन मिलने के बाद से ही सौम्या ऑफिस में रह कर काम करने लगीं और उन्होंने सितम्बर एक बेटी को जन्म दिया और वह २ हफ्ते की बेटी गोद में लिए काम पर लौट आईं.

जब सोशल मीडिया पर उनकी बच्ची के साथ खेलते हुए वीडियो वायरल हुई तो वह चर्चा में आ गईं इसपर सौम्या पांडेय का कहना था कि देश के प्रति भी उनका फर्ज़ है जो वह पीछे नहीं छोड़ सकती. यहां तक कि उन्होंने जापान में महिलाओं के डिलीवरी के कुछ टाइम बाद ही काम पर लौट आने का उदहारण भी दिया, अगर स्वास्थ्य सामान्य है तो काम पर लौटने में कोई दिक्कत नहीं है.

इन दिनों सौम्या अपनी बेटी को गोद में लिए ऑफिस में दिखाई देती हैं और अपने ऑफिस के काम के साथ अपनी बच्ची का भी पूरा ध्यान रखती हैं. सौम्या 26 साल की हैं और अपने देश से कोरोना जैसी महामारी को खत्म करना चाहती हैं, और यही एक वजह है उनके काम पर वापस लौटने की.

सौम्या जब 7 महीने गर्भवती अवस्था में थीं तभी उन्हें कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए नोडल अधिकारी बनाया गया था, अगर वह चाहती तो प्रेगनेंट होने का बहाना बनाकर मना कर सकती थीं मगर उन्हें उस वक़्त भी देश को ऊपर रखा और अपने काम में जुट गईं.