इस बड़ी हस्ती की अचानक मौत से दुख में डूबा देश,पीएम मोदी ने भी

0
47




दोस्तों MDH मसालों की कंपनी के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी जी का निधन हो 3 दिसम्बर को सुबह 5 बजकर 38 मिनट पर हुआ। इनका निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ है। कुछ रोज पहले महाशय धर्मपाल जी कोरोना से भी संक्रमित पाए गए थे लेकिन अब यह कोरोना से पूरी तरह ठीक हो चुके थे और दिल का दौरा पड़ने से इनकी मौत हो गई। महाशय धर्मपाल जी का 98 वर्ष के थे।

आपको बता दें कि यह मसाला सम्राट भी कहे जाते थे, महाशय दी हट्टी ( MDH ) देश की बहुत बड़ी मसाले की कम्पनी हैं। उद्योग जगत में महाशय धर्मपाल जी नाम एवम इनका योगदान अविस्मरणीय है। पिछले ही साल इनको राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद के कर कमलों द्वारा पद्मभूषण से नवाजा गया था।

महाशय धर्मपाल जी का जन्म सियालकोट ( पाकिस्तान ) में 27 मार्च सन 1923 में हुआ था। जब 1947 में बटवारा हुआ तो यह भारत आ गए। उस समय इनके पास केवल 1500 रुपए थे। यहां आकर इन्होंने तांगा चला कर अपने परिवार का पालन पोषण किया। उसी से इन्होंने कुछ पैसे बचा कर दिल्ली के करोलबाग में अजमल खाँ रोड पर एक मसाले की दुकान खोल ली।

इस एक छोटी सी मसाले की दुकान से इनका कारोबार धीरे धीरे समय के साथ बढ़ता गया और आज भारत और दुबई में इनकी 18 फैक्टरियाँ चल रहीं हैं। इन्ही फैक्ट्रियों में MDH मसाला तैयार हो कर घर घर में पहुचता है और खाने का जायका बढ़ा देता है। इनके कुल 62 प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं। नार्थ इंडिया के बाजार के 80 प्रतिशत हिस्सों पर इनका ब्रांड का दबदबा कायम है। महाशय धर्मपाल गुलाटी अपने उत्पादों का प्रचार भी खुद ही करते थे। अक्सर इन्हें टीवी विज्ञापनों में देखा गया है। इनको सबसे उम्र वाले ऐड स्टार की उपाधि प्राप्त थी।

धर्मपाल के 20 स्कूल और 1 अस्पताल चल रहा है,जबकि यह खुद 5वीं कक्षा तक पढ़े थे। किताबी ज्ञान न होते हुए भी इन्हें उद्योग में महारथ हासिल थी। यूरोमानिटर के अनुसार धर्मपाल जी एफएमसीजी क्षेत्र में सबसे अधिक कमाई करने वाले सीईओ थे। साल 2018 में इन्हें 25 करोड़ सैलरी के तौर पर हाथ मे प्राप्त हुए थे। यह आपकी सैलरी का 90 प्रतिशत हिस्सा दान कर दिया करते थे