Hathras मामले का CCTV Footage डिलीट, पूछे जाने पर दिया यह जवाव

0
2

हाथरस मामला लगातार उलझता जा रहा है। ऐसे में हाथरस मामले में ताजा अपडेट यह आ रही है कि हाथरस मामले में सबसे अहम सबूत अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज डिलीट हो गया है। ऐसे में अब सीबीआई खाली हाथ अस्पताल से लौट आई है और नए सिरे से जांच शुरू की है। आखिर ऐसा क्या हुआ सीसीटीवी फुटेज के साथ जो अचानक डिलीट हो गई? तो इस मामले पर अस्पताल प्रशासन का जवाब सवालों के घेरे में है। अस्पताल प्रशासन ने अपने बचाव में जो जवाब दिया है वह किसी के गले नहीं उतर रहा है।

hathras-case-cbi-questions-hathras-victims-brother-4-hour-during-investigation
Social Media

हाथरस मामले में 14 सितंबर को 19 वर्षीय एक लड़की के साथ कथित गैंगरेप और हत्या के मामले में सीबीआई टीम जांच कर रही है। इसी कड़ी में सीबीआई टीम ने बीते दिनों पीड़ित परिवार से पूछताछ की। वहीं अब जिला प्रशासन अस्पताल पहुंची, जहां वारदात के बाद पीड़िता को सबसे पहले ले जाया गया थाष सीबीआई अधिकारियों ने यहां 14 सितंबर का सीसीटीवी फुटेज मांगा, लेकिन तभी जो जवाब मिला उसने सीबीआई की टीम के होश उड़ा दिए।

hathras-case-cbi-questions-hathras-victims-brother-4-hour-during-investigation
Social Media

सीबीआई की टीम ने अस्पताल प्रशासन से कहा कि उन्हें 14 सितंबर की सीसीटीवी फुटेज चाहिए, जिसके जवाब में अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ इंद्रवीर सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन और पुलिस ने उस समय फुटेज नहीं लिए थे। अब एक महीने बाद सीसीटीवी फुटेज बैकअप में नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर अस्पताल प्रशासन को फुटेज रखने को कहा जाता, तो वह रखवा लेते। ऐसा नहीं कहा गया जिसके चलते अब अस्पताल के पास सीसीटीवी फुटेज नहीं है।

hathras-case-cbi-questions-hathras-victims-brother-4-hour-during-investigation
Social Media

अपने अस्पताल की सफाई में डॉक्टर इंद्रवीर सिंह ने कहा कि 7 दिनों में पिछला फुटेज अपने आप डिलीट हो जाता है और नया फुटेज उसके ऊपर रिकॉर्ड हो जाता है। तो वहीं इस मामले पर एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि घटना के पहले दिन की फुटेज महत्वपूर्ण हो सकती है। बता दे सीबीआई की टीम फुटेज इसलिए चाहती थी ताकि पता लगाया जा सके कि पीड़िता को किस तारीख में अस्पताल ले जाया गया था और अस्पताल से उसे बाहर कब लाया गया।

Social Media

बता दे सीबीआई की टीम इस फुटेज के आधार पर यह भी पता लगाना चाहती थी कि पीड़िता जब तक अस्पताल में थी तब तक उससे कौन-कौन मिलने आया था। साथ ही भर्ती रहने के दौरान कितने लोगों से पीड़िता ने बात की थी, लेकिन सीबीआई टीम के यह सभी सवाल अधूरे ही रह गए क्योंकि अस्पताल प्रशासन के पास वह फुटेज नहीं है। ऐसे में सीबीआई टीम को अस्पताल से खाली हाथ ही लौटना पड़ा है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।