बाबा रामदेव ने अपने रिश्‍तेदारों को सौंपी हैं पतंजलि में ये जिम्मेदारियां, भाई से बहनोई तक शामिल

0
2

राम भरत की पत्नी स्नेह लता भी पतंजलि से जुड़ी हैं। वो पतंजलि की लॉजिस्टिक्स यूनिट पतंजलि परिवहन प्राइवेट लिमिटेड में कंपनी के डायरेक्टरों में से एक हैं।

New Delhi, Oct 15: बाबा रामदेव आज दुनिया का सबसे बड़ा हर्बल ब्रांड बन चुके पतंजली के मालिक हैं, उनकी पहचान नामी उद्यमियों में होती है । लेकिन उनके इस व्‍यापार को आगे बढ़ाने में उनकर पूरा परिवार उनके साथ है । जी हां, उनके भाई से लेकर बहनोई तक, बहन से लेकर भाभी तक सब उनके व्‍यापार में जुड़े हुए हैं । ये बात सौ फीसदी सही है कि उनकी कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने नामी एफएमसीजी कंपनियों की नाक में दम कर रखा है। पतंजलि आयुर्वेद के सालाना टर्नओवर के बारे में बात करें तो ये करीब 10 हजार करोड़ का है। भारत की इस नामी कंपनी में सिर्फ रामदेव ही नहीं बल्कि उनके परिवार के और भी सदस्य शामिल हैं।

भाई और भाभी के पास ये जिम्‍मेदारी
बाबा रामदेव के छोटे भाई का नाम है राम भरत । राम भरत पतंजलि ग्रुप की कंपनी रुचि सोया के एमडी हैं । इसके अलावा वो पतंजलि की आधा दर्जन से ज्यादा कंपनियों में भी डायरेक्टर हैं । बिजनेस मैगजीन की एक रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि की 6 प्रमोटर कंपनियों में से तीन में राम भरत की बड़ी हिस्सेदारी है। वहीं राम भरत की पत्नी स्नेह लता भी पतंजलि से जुड़ी हैं। वो पतंजलि की लॉजिस्टिक्स यूनिट पतंजलि परिवहन प्राइवेट लिमिटेड में कंपनी के डायरेक्टरों में से एक हैं।

बहन – बहनोई के पास ये जिम्‍मेदारी
बाबा रामदेव की छोटी बहन ऋतंभरा भी उनके साथ जुड़ी हैं, वो पंतजलि से जुड़ी कुछ कंपनियों में निदेशक हैं। ऋतंभरा के पति यशदेव शास्त्री भी पतंजलि ग्रुप की दो कंपनियों में निदेशक बताए जाते हैं। अलवर में उनकी फर्म ऋतंभरा फूड्स है, जो कि पतंजलि को सरसों के बीज की भी सप्लाई करती रही है ।

पिता
रामदेव के पिता रामनिवास यादव को सीधे तौर पर कोई जिम्‍मेदारी नहीं सौंपी गई है, लेकिन योगपीठ में आयुर्वेद के खेतों का कामकाज देखते हुए उन्‍हें देखा जा सकता है। रामदेव के पिता एक किसान थे और वो आज भी बहुत ही सादा जीवन जीते हैं । रामदेव के पतंजली में बालकृष्‍ण बराबर के हिस्‍सेदार हैं ।